Type Here to Get Search Results !

एलोवेरा की खेती कैसे करें, एलोवेरा की खेती से लाभ, aloe vera farming in Hindi

0

एलोवेरा की खेती से लाभ, aloe vera farming in Hindi

Aloe vera farming Business paln

आज के टाइम में एलोवेरा की बहुत मांग बढ़ती जा रही है क्योंकि एलोवेरा से होने वाले फायदे आश्चर्यचकित होते हैं यह एक चमत्कारी पौधा है इससे कई लाभ आपको प्राप्त हो सकते हैं बाजार के अंदर एलोवेरा जूस, एलोवेरा क्रीम, एलोवेरा जेल patanjali Aloe vera आदि की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है 

अतः लोग एलोवेरा से बने प्रोडक्ट पर ज्यादा विश्वास करते हैं इसलिए लोग एलोवेरा से बनी चीजों का ही इस्तेमाल करते हैं अगर आप चाहे तो आप एलोवेरा का बिजनेस करके, एलोवेरा की खेती से लाभ लाखों रुपए प्रॉफिट के रूप में कमा सकते हैं और इसमें ज्यादा लागत भी नहीं आती, आज हम इसी के बारे में बात करेंगे कि एलोवेरा की खेती कैसे करें और एलोवेरा की खेती से लाभ क्या क्या है, aloe vera in hindi

अगर आप किसी भी प्रोडक्ट की डिमांड और खपत को नजर में रखते हुए बिजनेस करोगे तो इससे आप बहुत जल्द मुनाफा प्राप्त कर पाओगे,

इसी प्रकार अगर हम एलोवेरा की खेती की बात करें तो एलोवेरा भारतीय, अंतरराष्ट्रीय मार्केट में बहुत डिमांड पर हैं जिसका सबसे मुख्य कारण यह है कि ये औषधि में सबसे ज्यादा काम आने वाला प्रोडक्ट है 

चाहे कोई दवाई की कंपनी हो या फिर कॉस्मेटिक प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी इन सभी कंपनी में एलोवेरा की डिमांड बहुत ज्यादा है आप इन्हीं कंपनी में एलोवेरा की सप्लाई करके इससे अच्छा खासा मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं और लाखों में कमाई कर सकते हैं

एलोवेरा की खेती कैसे करें, एलोवेरा का पौधा कैसे लगाएं।

एलोवेरा की खेती करने के लिए आपकी कम लागत आती हैं और एलोवेरा की खेती में सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें ज्यादा पानी देने की भी जरूरत नहीं होती अगर आप राजस्थान जैसे एरिया में रहते हैं या उसके आसपास के गांव में रहते हैं तो आपके लिए यह बहुत ही अच्छा साबित हो सकता है 

क्योंकि एलोवेरा के उत्पादन के लिए रेतीली मिट्टी और गर्म तापमान वाला क्षेत्र बहुत अच्छा माना जाता है, अगर आप राजस्थान के अलावा और किसी राज्य में रहते हैं जैसे उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब आदि राज्यों में आप कहीं भी रहते हैं तो आप वहां पर भी एलोवेरा की खेती बड़े आराम से कर सकते हैं।


एलोवेरा कितने प्रकार के होते हैं। एलोवेरा की किस्में।

अगर हम बात करें कि एलोवेरा कितने प्रकार के होते हैं तो मुख्य रूप से एलोवेरा की 3 प्रजातियां देखने को मिलती हैं वे 3 प्रजातियां कुछ इस प्रकार हैं।

1. एलो बारबाडेसिस

2. मुसब्बर Arborescens

3. मुसब्बर Saponaria 

यह कुछ एलोवेरा की सामान्य रूप से पाई जाने वाली प्रजातियां हैं इन सभी एलोवेरा की तीन प्रकार की प्रजाति होती है जो हमने ऊपर बताई है सामान्य रूप से यहीं पर जाती एलोवेरा की पाई जाती है।


एलोवेरा के फायदे क्या-क्या हैं।

एलोवेरा के फायदे, एलोवेरा एक ऐसा पदार्थ है जिस के अनेकों फायदे हैं एलोवेरा को हम बहुत सी बीमारियों में औषधि के रूप में ले सकते हैं एलोवेरा से त्वचा के बहुत से लोग ठीक हो सकते हैं 

और यह सौंदर्य का भी प्रतीक होता है एलोवेरा लेने से शरीर में चुस्ती फुर्ती बनी रहती है। एलोवेरा से होने वाले फायदे कुछ इस प्रकार हैं 

जैसे- बवासीर, धूप से झुलसी हुई त्वचा, रूखी त्वचा, मुहासे, त्वचा की खराबी, चेहरे के दाग धब्बे, फटी एड़िया, आंखों के काले घेरे, डायबिटीज, गर्भाशय के रोग, जोड़ों का दर्द, पेट की खराबी और साथ ही साथ खून की कमी को भी पूरा करने में यह लाभप्रद है 
ओर यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है 

आजकल सौंदर्य के लिए हर्बल कॉस्मेटिक जैसे प्रोडक्ट के रूप में एलोवेरा जेल, हेयर जेल, स्किन जेल, शैंपू, बॉडी लोशन, फेशियल फॉर्म, साबुन, ब्यूटी क्रीम, हेयर सैलून, और ब्यूटी पार्लर इत्यादि में एलोवेरा का इस्तेमाल किया जाता है 

और यह हमारे बालों के लिए अभी बहुत फायदेमंद है अगर मेहंदी में मिलाकर एलोवेरा को अपने बालों में लगाया जाए तो यह बालों को मजबूत और चमकदार बना देता है इससे अलग भी एलोवेरा के बहुत फायदे देखने को मिलते हैं 


एलोवेरा का पौधा कहां मिलेगा, एलोवेरा का बीज कहां मिलेगा।

अगर आप एलोवेरा की खेती करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको जरूरत होती है एलोवेरा का पौधा ढूंढने की मतलब एलोवेरा की खेती करने के लिए आपको जरूरत पड़ेगी एलोवेरा के बीज की 

अब बात आती है एलोवेरा का बीज कहां पर मिलता है सामान्य तौर पर देखा जाए तो एलोवेरा का बीज आपको किसी भी बीज भंडार की दुकान पर मिल जाता हैं

आप अपने नजदीकी किसी बीज भंडार की दुकान से एलोवेरा का बीज ले सकते हैं यहां सरकारी बीज केंद्र से भी एलोवेरा का बीज प्राप्त कर सकते हैं उसके बाद आप अपने एलोवेरा की खेती शुरू कर सकते हैं।


एलोवेरा खेती के लिए एलोवेरा पौधे का चुनाव, और इसके फायदे।

अगर आप एलोवेरा की खेती करना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे ध्यान देने योग्य बातें यह है कि आपको सही एलोवेरा पौधे का चुनाव करना होगा।

क्योंकि अच्छे एलोवेरा के पौधे का चुनाव ही आपके बिजनेस को आगे बढ़ा सकता है, मार्केट के अंदर बहुत तरह के एलोवेरा के पौधे मौजूद जिनमें कुछ हाइब्रिड एलोवेरा के पौधे भी मौजूद है 

जो बहुत तेजी से बढ़ते हैं और जिनमें कीड़ा लगने की संभावना भी ना के बराबर होती है। हम आपको एलोवेरा पौधे के हाइब्रिड के बारे में बताने वाले हैं। 

IEC 111271

IEC 111269

आप ऊपर बताए गए 2 तरह के हाइब्रिड वाले पौधों का चुनाव भी कर सकते हैं यह पौधे बहुत तेजी से बड़े होते हैं और आपको अच्छा खासा मुनाफा भी है देते हैं।

एलोवेरा की खेती से लाभ - आप एलोवेरा उगाने के लिए 2 एकड़ भूमि का इस्तेमाल करते हैं तो आपको दूसरे ही वर्ष से 400,000 से 500,000 का मुनाफा आने लगेगा।

एलोवेरा का मंडी भाव - एक जांच के अनुसार पता लगाया गया है कि 2 एकड़ जमीन के अंदर लगभग 35 टन एलोवेरा उगाया जा सकता है और भारत के अंदर 1 टन एलोवेरा की कीमत 24 से 25 हजार रुपए तक होती है तो आप अंदाजा लगा सकते हैं 35 टन एलोवेरा की कीमत आपको कितना मुनाफा दे सकती है।


एलोवेरा की खेती के लिए भूमि का चुनाव।

एलोवेरा की खेती करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह भी है कि आप कैसी भूमि का चुनाव कर रहे हैं आपको हमेशा ऐसी भूमिका चुनाव करना चाहिए जहां पर नमी या पानी ज्यादा ना हो। 

और आप जिस जगह का चुनाव कर रहे हैं वह सामान्य जमीनों से थोड़ा ऊपर हो जिससे वर्षा का पानी उसमें न‌ रुक सके, अगर आपके द्वारा चुनाव किए गए जमीन की मिट्टी रेतीली हो तो वह बहुत अच्छी होती है एलोवेरा की खेती करने के लिए।

अगर आपने एलोवेरा की खेती करने के लिए जमीन का चुनाव कर लिया है तो अब आपको जरूरत है एलोवेरा की खेती करने से पहले भूमि को एलोवेरा के लिए तैयार करना की।

आपको अपनी भूमि को जोतना है और यह काम आपको मानसून शुरू होने से पहले ही करना है आपको जमीन को इस तरीके से जोतना है कि कोई भी माटी का बड़ा ढेला ना हो, फिर आपको जोती गई भूमि में 10 से 12 टन खाद मिलाकर उसको फिर से जोतना होगा जिसके बाद आपके एलोवेरा की पैदावार बहुत अच्छी होगी।


एलोवेरा की खेती में कीटनाशक दवाई का छिड़काव।

एलोवेरा की खेती करने के लिए आपको एलोवेरा के पौधों पर कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव करना भी बहुत जरूरी है, क्योंकि मिली नामक कीड़ा एलोवेरा की खेती को बिल्कुल नष्ट कर देता है 

इसका यह नुकसान है कि आप के उगते हुए एलोवेरा के पौधे में चित्ता दाग लग जाता है और फिर धीरे-धीरे पूरा पौधा नष्ट हो जाता है इसलिए आपको एलोवेरा की खेती पर कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव करना बहुत जरूरी होता है। 

आप कुछ इस तरह की दवाई छिड़काव में इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे 0.2% of malathion aqueous सलूशन या फिर आप 0.1% पैराथीओन का छिड़काव कर सकते हैं, और आपको हफ्ते में एक बार 0.2% dithane M-45 का भी छिड़काव करना होगा जिससे आपके पौधे नष्ट नहीं होंगे। aloe vera in hindi


एलोवेरा की कटाई कब शुरू करें।

आपको एलोवेरा की कटाई करने के लिए 08 महीनों का इंतजार करना होगा आप 08 महीने के बाद एलोवेरा की कटाई कर सकते हैं और आप को ध्यान में यह भी रखना होगा कि एलोवेरा की कटाई करते समय आप एलोवेरा को जड़ से मत काटे। 

क्योंकि अगर आप एलोवेरा को जड़ से काटेंगे तो दोबारा एलोवेरा का उत्पादन नहीं हो पाएगा इसलिए आप एलोवेरा के बड़े पत्ते बड़ी सावधानी के साथ काटे आप दूसरे साल से लेकर 5 साल तक एलोवेरा की कटाई कर सकेंगे, दोबारा रोपण किए बिना।


एलोवेरा की मार्केटिंग कैसे करें।

अब बात कर लेते हैं मार्केटिंग की किसी भी व्यवसाय को करने के लिए आपको इसकी मार्केटिंग करना बेहद आवश्यक होता है जिसकी मदद से आप अपने व्यवसाय से दोगुना मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं इ

इसी प्रकार आपको एलोवेरा की मार्केटिंग भी करनी होगी आप एलोवेरा की मार्केटिंग करने के लिए कुछ कंपनी को टारगेट बना सकते हैं जैसे कॉस्मेटिक कंपनी, दवाइयों की कंपनी और आयुर्वेदिक कंपनी आदि को टारगेट कर सकते हैं। 

अगर आप अपने एलोवेरा जूस बनाकर ऑनलाइन बेचोगे ब्रांडिंग करके तो इससे आपको दोगुना मुनाफा और हो जाएगा यह भी बहुत अच्छा तरीका है ज्यादा मुनाफा कमाने का, 

और इसके साथ साथ आप न्यूज़ पेपर में भी अपने एलोवेरा से संबंधित विज्ञापन छपवा सकते हैं जिससे यह होगा कि जिस किसी भी व्यक्ति को भारी मात्रा में या किसी भी कंपनी को एलोवेरा की जरूरत होगी वह आपको संपर्क करेगा 

और इससे भी आपका मुनाफा दोगुना हो जाएगा और आपकी मार्केटिंग भी बढ़ेगी। अगर आप चाहे तो अपने एलोवेरा से संबंधित पोस्टर बैनर वगैरह बनवा कर मार्केट में लगवा सकते हैं उससे भी होने वाला फायदा बहुत अच्छा होगा।


एलोवेरा की खेती से लाभ, एलोवेरा कहां बेचे।

जैसे हमने पहले ही बताया अगर आप एलोवेरा की खेती बड़े स्तर पर करना चाहते हैं या अपने हिसाब से जिस स्तर से करना चाहते हैं तो वह आपको बहुत अच्छा मुनाफा दे देता है 

एलोवेरा की कीमत - अगर आप अपने एलोवेरा की खेती 2 एकड़ जमीन में करते हैं तो वहां से आपको 25 से 30 टन एलोवेरा मिल जाएगा और मार्केट के अंदर एलोवेरा की कीमत 25,000 से ₹30,000 टन होती है इसी प्रकार आप हिसाब लगा सकते हैं कि 25 से 30 टन एलोवेरा का कितना प्रॉफिट आपको मिल सकता है 

आप लगभग 400,000 से ₹500,000 आराम से कमा पाएंगे। और इसमें यह भी फायदा है कि आप एक बार एलोवेरा लगाकर उसी से 5 वर्षों तक एलोवेरा का उत्पादन कर सकते हैं और 5 वर्ष तक बिना एलोवेरा दोबारा लगाए आप कमाई कर सकते हैं।


एलोवेरा लगाने में लागत कितनी आती है।

अगर एलोवेरा की खेती करने में लागत की बात की जाए तो इसमें कोई बड़ी रकम निवेश नहीं करनी पड़ती अगर आपके अपने निजी खेती है तो वह आपके लिए बहुत अच्छा है 

आप केवल 40 से 50 हजार के निवेश में अपने एलोवेरा के व्यवसाय को शुरू कर सकते हैं और यह हर साल आपको मुनाफा देने के लिए तैयार हो जाता है यह एक बहुत ही अच्छा व्यवसाय है जिससे आपको भारी मात्रा में प्रॉफिट होता है।

तो दोस्तों कैसी लगी आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अगर आप भी एलोवेरा की खेती करने के इच्छुक हैं तो आप बिल्कुल कर सकते हैं यहां कम लागत में एलोवेरा की खेती से लाभ ज्यादा कमा सकतेेेे है। अगर आप यह व्यवसाय करने की सोच रहे हैं तो सोचिए मत कर लीजिए लेकिन कोई भी बिजनेस करने के लिए आपको उस दिन इसके लिए पूरी प्लानिंग करनी होगी तब जाकर आप अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं, अगर आप को इस संबंध में किसी भी जानकारी की जरूरत है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। aloe vera in hindi


यह भी पढ़ें।

Post a Comment

0 Comments