Short Story In Hindi – 15 Best बच्चों के लिए छोटी मजेदार कहानियां।

Short Story In Hindi – बचपन और stories का एक अलग ही नाता है। ये Stories ही तो है जो knowledge प्राप्त करने का सबसे acha तरीका मानी जाती है। Bache नाना-नानी या दादा-दादी के pas जाएं और वहाँ jakar उन्हें राजा-रानी या परियों की Hindi Kahani sunne के लिए ना बोले, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। Aaj हम दादा-दादी या Nana Nani द्वारा सुनाई जाने वाली ऐसी ही kuch मज़ेदार Short Story In Hindi लेकर आये है, jisse पढ़ने के बाद आपके bacho का सिर्फ entertainment ही नहीं होगा बल्कि उन्हें bahut कुछ सीखने को भी मिलेगा।

हर उम्र का Vyakti Kahani sunna या पढ़ना पसंद करता है, यही कारण है कि stories का महत्व दिन per/day बढ़ता जा रहा है। stories ना सिर्फ बच्चों का entertainment करती है, बल्कि उन्हें lubhati भी है और अंत में बच्चों को एक सीख (Moral Story) देकर Jarur जाती है। तो आइये फिर देर किस बात की आप भी apne बच्चों को Short Story In Hindi With Moral सुनाइए। मुझे पूरी ummed है कि ये मज़ेदार stories आपके बच्चों को जरूर पसंद आएंगी और वो इसे एक बार नहीं बल्कि बार-बार sunne या पढ़ने के लिए utsahit होंगे।

आज की इस पोस्ट Short Stories in Hindi में हम apke लिए शिक्षा से भरी aisi 15 Hindi Story lekar आए है जिसे पढ़ने के बाद apke सोचना का tarika पूरी तरह बदल जायेगा और आप safalta की ओर कदम badhana शुरू करेंगे। Stories कई प्रकार की होती है ऐसी ही कुछ हिंदी कहानी (Kahani Hindi) है जिनका हमने निचे ullekh किया है। आशा karta हूँ कि आपको ये Very Short Story in Hindi अथवा Short Story in Hindi for Kids में पसंद AYegi.

Table of Contents

Short Story In Hindi – 15 Best बच्चों के लिए छोटी मजेदार कहानियां।

Short Story In Hindi – 15 Best बच्चों के लिए छोटी मजेदार कहानियां।

अक्सर हमारे घर में chote बच्चे हमसे stories सुनाने की जिद करते हैं और फिर हम soch में पड़ जाते हैं, कि अब aisi कौन सी Hindi Moral Story sunai जाए जो choti भी हों और और बच्चों को pasand भी आये.. इसलिए आज मैंनें इस लेख में आपके साथ कुछ ऐसी ही behtreen और शिक्षाप्रद कहानियाँ (Hindi Short Stories) share की हैं, जो आपके बच्चों को सुनने में पसंद भी ayegi और साथ उन्हें हर एक कहानी से एक achi सीख भी milegi. जो उन्हें एक बेहतर insan बनाने में भी madad करेंगी. तो अब आप भी इन सभी Hindi Short Story को एक-एक karke जरुर पढ़ें और अपने bacho को भी सुनाएं.

1. घमंडी बारहसिंगा : (Moral Stories In Hindi)

एक time की बात है। एक घने jangal में एक बारहसिंगा रहता था। वह बड़ा Ghamandi था। एक बार वह talab में पानी पी रहा था और pani पीते हुए उसने अपनी parchai देखी। वो अपने सुन्दर सींगो को dekhkar बहुत खुश हुआ, पर अपनी पतली टाँगो को देखकर bahut दुखी हुआ और वो भगवान को कोसने लगा।

एक बार कुछ sikari कुत्ते जंगल में आ गए और वो barah singha के पीछे पड़ गए। ये dekhkar वो घबराकर दूर भाग गया। उसकी patli टाँगे ही उसकी bhagne में सहायता कर रही थी। भागते-भागते achanak उसके सींग टहनियों के Bich फँस गए।

उसने अपने singo को बाहर nikalne की बहुत कोशिश की, पर वह अपने singo को बाहर ना nikaal पाया। jiske बाद उन शिकारी कुत्तों ने उसे ghayal कर दिया और वो marne की हालत में हो गया था। Marte समय वह sochta रहा, “इन सुंदर सींगों ने मुझे marwaya है और मेरी पतली टाँगे mujhe बचा सकती थी।”

शिक्षा – कोई भी चीज़ अपने गुणों के कारण सुंदर होती है।

2. शेर और चूहा : (Short Hindi Story)

एक time की बात है, सर्दी का din था और एक शेर धूप में सो रहा था। तभी वहाँ एक chuha आया और soye हुए शेर के शरीर पर कूदने लगा। Jisse तंग आकर sher जाग उठा और उसने अपने भारी पंजो से चूहे को pakad लिया। शेर ने gusse में कहा, “मुर्ख चूहे mujhe तंग क्यों किया, अब tujhe इसकी सज़ा जरूर मिलेगी।

इसके बाद chuha बहुत डर गया और sher से माफ़ी मांगते हुए कहने लगा कि, मुझे jane दो अगर आपको मेरी madad की कभी भी jarurat होगी तो मै apki मदद जरूर करूँगा। ये sunne के बाद शेर हँसने लगा और sochne लगा कि ये छोटा सा चूहा meri क्या Madad करेगा। चूहे को vinti करते देख sher ने उसे माफ़ किया और जाने दिया।

कुछ ही dino बाद वो शेर jangal में shikari द्वारा बिछाए गए एक jaal में फंस जाता है। Sher उस jaal से निकलने की बहुत kosish करता है पर वो nikal नहीं पाता। जिसके बाद वो दहाड़ना shuru कर देता है। ये awaz उस चूहे तक pahuch जाती है और वो शेर को bachane के लिए वहाँ पहुँच जाता है।

चूहा अपने danto से जाल को katne की kosish करता है और अंत में वो sher को बाहर निकालने में safal हो जाता है। शेर चूहे के इस ka से बड़ा khush होता है। वो chuhe से कहता है कि दोस्त मैं tumhara ये अहसान कभी नहीं bhulunga और साथ ही कहता है aaj से तुम मेरे सच्चे मित्र हो।

शिक्षा – कभी भी किसी को अपने से छोटा या कमज़ोर नहीं समझना चाहिए।

3. लालची कुत्ता : (Short Story For Kids In Hindi)

एक बार की baat है एक कुत्ते को बहुत तेज Bhuk लगी थी। वह खाने की talas में इधर-उधर bhatak रहा था और अचानक उसे एक रोटी दिखी। Kutta रोटी को देखकर बहुत utsahit हो गया। वो रोटी की tarf गया और उसे अपने मुंह में dabakar नदी के किनारे ले गया।

Nadhi पार करते हुए कुत्ते को pani में अपनी परछाई दिखी और उसे laga कि, ये किसी और कुत्ते की parchai है जो उसकी रोटी छीनना chahta है। उसने सोचा कि वह bhokar दूसरे कुत्ते को डरा देगा और jaise ही उसने भोंकना शुरू किया uski रोटी उसके मुंह से nikalkar नदी में बह गई jiske बाद वो भूखा ही रह गया।

शिक्षा – हमें हमेशा समझदारी से काम लेना चाहिए।

4. सारस और लोमड़ी : (Short Story With Moral In Hindi)

एक janagal में एक lomdi और सारस रहते थे। दोनों में गहरी मित्रता थी। एक दिन limdi ने सारस को देखा और वह कहने लगी, “सारस भाई, राम-राम, kaise हो? सारस बोला lomdi बहन मैं तो अच्छा हूँ तुम apni बताओ?

Lomdi को शरारत सूझी और वह kehne लगी सारस भाई मैं तुम्हे अपने घर dawat पर बुलाना चाहती हूँ, kal तुम मेरे घर bhojan करने आना। दूसरे दिन saras lomdi के घर भोजन करने पहुँचा। Dono ने एक दूसरे को राम-राम bola और फिर मीठी-मीठी bate करने लगे। कुछ देर बाद lomdi दो परातो में बहुत पतली khichdi बनाकर ले आई और वह saras से बोली सारस भाई Aao खाना खाएँ।

Lomdi तो जल्दी-जल्दी khichdi खाने लगी, लेकिन सारस की lambi चोंच में khichdi ना आई। उसे khichdi ना खाते देख लोमड़ी मन ही मन bahut खुश हुई और jhuti चिंता दिखाते हुए सारस से puchne लगी कि क्या बात है तुम्हे pasand नहीं आया? सारस lomdi की chalaki समझ गया और थोड़ी देर बात करने के बाद usne लोमड़ी को बोला कि, kal तुम मेरे घर खाने पर जरूर आना lomdi ने कहा हाँ मैं जरूर आऊंगी।

Saras ने मछलियाँ पकाकर दो तंग muh की surahiyo में डाल दी। जब lomdi आई, तो दोनों ने एक दूसरे को ram ram करी और बातें karne लगे। कुछ देर बाद सारस surahi उठा लाया। वह lomdi को कहने लगा, बहन आओ milkar मछलियाँ खाएँ।

इतना bolkar उसने अपनी चोंच surahi में डाल दी। वह मज़े से machliya खाने लगा। लोमड़ी का इतना बड़ा muh सुराही के छोटे से muh में जा ही नहीं पा रहा था। वह saras का मुँह देखती रह गई। अब lomdi समझ गई कि saras ने अपना बदला ले लिया है।

शिक्षा – जैसे को तैसा

5. प्यासा कौआ : (Story For Kids In Hindi)

एक baat की बात है, गर्मी का mahina था। एक कौए को बहुत तेज़ प्यास लगी थी। वह pani की तलाश में इधर-उधर उड़ने लगा, पर उसे कही भी pani ना मिला। तेज़ गर्मी के कारण उसकी प्यास ओर बढ़ती जा रही थी। Kowa ने जीने की उम्मीद छोड़ दी थी। लेकिन उसने haar नहीं मानी, वह पानी की तलाश करने फिर चला गया, अचानक उसे एक pani से भरा घड़ा दिखाई दिया। वह उस घड़े को देखकर bahut खुश हो गया और तुरंत उड़कर घड़े के पास गया।

घड़े में पानी itna कम था कि, उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुँच सकी। यह देखकर वो parshn हो गया। उसने हर तरीके से पानी पीने की कोशिश करी पर वो safal ना हो पाया

वह niras होकर जैसे ही वहाँ से जाने लगा तो उसकी नज़र अचानक कंकर पर padi

वह एक-एक kankar अपनी चोंच से उठाकर पानी में डालने लगा। धीरे-धीरे पानी ऊपर आ गया और kowa ने जी भर कर पानी पिया और वहाँ से उड़ गया।

शिक्षा – जब हम किसी अन्य व्यक्ति को महसूस करेंगे तो हम महसूस करेंगे है।

प्यासा कौआ से जुड़ी एक प्रसिद्ध कविता (popular story)

एक कौआ प्यासा था

जग में पानी थोड़ा था,

कौए ने डाला कंकर,

पानी आया ऊपर,

कौए ने पीया पानी,

खत्म हुई कहानी।।

6. सोने का अंडा देने वाले हंस की कहानी : (Short Stories In Hindi For Kids)

एक gaon में एक हंस पालन करने वाला अपनी पत्नि के साथ रहता था। वह हर रोज bazar में जाकर हंस खरीदता और घर आकर उनकी dekhbhal करता था। हर दिन की तरह वो बाजार से एक हंस खरीद कर लाया। वो sabki तरह उसे भी बहुत प्यार से पालने लगा और धीरे-धीरे वो हंस tandurust बन गया। कुछ महीने बाद उस hansh ने अंडा दिया, jiski देखने के बाद व्यापारी और उसकी पत्नी dono ही हैरान रह गए। वह अंडा सोने का था।

वह हंस hamesha सोने का अंडा deta और पति-पत्नी उसे बेचकर पैसे kamate। सोने के अंडे को देखकर उनके मन में लालच बढ़ने लगा और vyapari ने सोचा कि, अगर ये हर रोज एक सोने का अंडा देता है तो uske अंदर और कितने अंडे होंगे। ये सोचकर उन्हें एक tarkib आई और उन्होंने हंस को मार डाला और जब उसका पेट चीर कर dekha तो उस में एक भी अंडा नहीं था jiske बाद वो बहुत रोए।

शिक्षा – लालच बुरी बला है।

7. चींटी और कबूतर : (Hindi Short Stories)

गर्मी के time की बात है। एक chiti को बहुत प्यास लगी थी। वो पानी की Talas करते हुए एक नदी के Kinare पहुंच गई। नदी से पानी पीने के liye वो एक छोटी Chattan पर चढ़ गई। जैसे ही वो पानी पीने लगी, वो Chattan से फिसल कर नदी में जा गिरी। पानी का बहाव bahut तेज था और वो नदी में behne लगी। वहीं नदी के पास बहुत bda पेड़ था, जिस पर एक kabutar बैठा हुआ था।

Suddenly उस कबूतर की नज़र चींटी पर पड़ी उसने उसकी मदद के लिए पेड़ से एक patta तोड़ कर नदी में fenka और चींटी उस पर चढ़ गई। कुछ देर बाद patta बहकर सूखी जमीन पर पहुँच गया और चींटी बाहर आ गई। Chiti ने कबूतर का धन्यवाद किया।

Sham को एक sikari कबूतर का शिकार करने आया। कबूतर इस बात से अनजान था और aaram से सो रहा था। चींटी ने जैसे ही शिकारी को dekha तो उसने उसके paon में जाकर काट दिया। इससे उस siakri की चीख निकल गई और वो चिलाने लगा। उसकी चीख से kabutar जाग गया और उड़ गया। कबूतर ने चींटी की जान बचाकर जो नेक kaam किया था। आज उसी ने उसकी जान बचाई है।

शिक्षा – कर भला तो हो भला।

8. झूठा दोस्त (Short Moral Story In Hindi)

एक बार कि baat हैं, हिरण और kowa बहुत अच्छे दोस्त थे। वे दोनों हर dukh sukh में एक दूसरे का sath दिया करते थे। एक दिन कौए ने hiran को सियार के साथ देख लिया। कौए ने हिरण को समझाया कि सियार बहुत chalaak जानवर है, वो हर किसी को अपने जाल में फंसा leta है इसलिए उसका साथ छोड़ दे। हिरण ने कौए की सलाह पर dhiyan नहीं दिया और सियार के साथ खेत में चला गया। Hiran वहाँ लगे जाल में फंस गया।

Siyar उससे कहने लगा “मैं तो kisan को बुलाने जा रहा हूं, वह आएगा और tumhe मार डालेगा”। हिरन चिल्लाने लगा, तभी वहां कौआ आया और उसने hiran से कहा तुम ऐसे लेट जाओ जैसे की तुम मर गए हो। हिरन ने apne दोस्त की बात मानी और वैसे ही करा।

Thodi देर बाद वहाँ kisan आया और उसने देखा कि हिरन तो मर गया, ये देखकर वो बहुत khush हुआ। किसान ने जल्दी से जाल खोला और जाल khultr ही हिरन वहाँ से भाग निकला। ये देखकर किसान बहुत गुस्सा हुआ और siyar को खूब मारा और उसे वहाँ से भगा दिया।

शिक्षा – किसी पर कभी भी आसानी से भरोसा नहीं करना चाहिए।

9. लोमड़ी और अंगूर (Bacchon Ki Kahani)

एक बार jangal में भूखी lomdi खाने की तलाश में इधर-उधर भटक रही थी। काफी देर ghumne के बाद भी उसे खाना नहीं मिला। थोड़ी देर तक shumne के बाद उसे एक पेड़ दिखाई दिया। उस पेड़ पर रसीले अंगूर के guche लटक रहे थे। यह देखकर लोमड़ी के मुँह में pani आने लगा। Lomdi ने मन में सोचा कि “ये अंगूर तो बहुत swadist लग रहे है और मैं ये जरूर khaungi”। अंगूर बहुत uper लगे हुए थे। Lomdi ने छलांग लगाकर अंगूर तोड़ने की kosish करी, पर वह असफल रही।

बहुत देर तक kosish करने के बाद वो सोचने लगी कि, अब कोशिश करना bekar है। वह अपने aap से कहने लगी अब उसे ये अंगूर नहीं chaiye, यह तो खट्टे है। Lomdi का व्यवहार ये बताता है कि जब हम kisi चीज को पाने में asafal हो जाते है तो उसमें कमियां nikalne लगते है। थोड़ी देर बाद lomdi चुपचाप जंगल के dusri ओर निकल पड़ी।

शिक्षा – अपनी कमियों को नज़र अंदाज़ नहीं करना चाहिए।

10. माँ का प्यार : (Moral Story In Hindi Short)

एक Shandar महल में एक खूबसूरत परी रहती थी, जिसे अपनी खूबसूरती पर बड़ा घमंड था। एक din उस परी ने घोषणा करी कि, “जिस प्राणी का बच्चा सबसे jyada सुंदर होगा, उसे मैं इनाम दूँगी”। ये सुनकर सभी khush हो गए और अपने-अपने बच्चों के साथ पुरस्कार को jitne की चाह में एक स्थान पर जमा हो गए। परी सारे बच्चों को dhiyan से देखने लगी।

वहाँ पर एक bandariya का बच्चा आया हुआ था। जब उसने बंदरिया के चपटी नाक वाले bache को देखा, तो वो उसे देखकर बोलने लगी छिः! Kitna कुरूप है यह बच्चा। इसके माता-पिता को तो मै कभी पुरस्कार नहीं दे Sakti परी की यह बात सुनकर उस बच्चे की माँ को bahut बुरा लगा। वो अपने बच्चे को हृदय से लगाकर कहने लगी “मेरा la तू तो बहुत ही सुंदर है, मैं तुझे बहुत प्यार करती हूँ मेरे liye तो तू ही सबसे bada पुरस्कार है”। मैं कोई दूसरा पुरस्कार प्राप्त karna नहीं चाहती। भगवान तुझे लंबी उम्र दे।

शिक्षा – माँ जैसा इस दुनिया में कोई दूसरा नहीं।

11. हरे घोड़े की कहानी – अबकर बीरबल

एक दिन akbar अपने प्रिय बीरबल के साथ शाही बाग़ की सैर के लिए गए। चारों ओर haryali को देखकर अकबर को बहुत आनंद आया। कुछ देर बाद सैर karte करते राजा कहने लगा कि, मेरा तो इस हरी भरी haryali को देखकर मन कर रहा है कि हम हरे घोड़े पर बैठकर इस हरे बगीचे में ghume। उन्होंने birbal से कहा, “बीरबल मुझे हरे रंग का ghoda चाहिए”। उसने बीरबल को आदेश देते हुए कहा कि ‘मैं तुम्हें aadesh देता हूं कि, तुम सात दिनों के अंदर हमारे लिए ek हरे घोड़े का इंतजाम करो’।

Albar और बीरबल दोनों को pta था कि, हरे रंग का घोड़ा होता ही नहीं। पर akbar को तो birbal की परीक्षा लेनी थी। राजा चाहते थे कि, बीरबल kisi तरह अपनी हार को स्वीकार करें। मगर, बीरबल भी बहुत चालाक थे। वो janga था कि, राजा उनसे क्या चाहते हैं। इसलिए वो भी ghoda ढूंढने का बहाना बनाकर सात दिनों तक इधर-उधर ghumte रहे।

जैसे ही athwa din दिन आया वो akbar के सामने हाज़िर हो गए और कहने लगे apka काम हो गया है मैंने आपकी आज्ञा के अनुसार हरे रंग के घोड़े का intzam कर दिया है। ये सुनने के बाद अकबर को आश्चर्य हुआ। Unhone कहा जल्दी बताओ कहा है हरे रंग का घोड़ा। Birbal ने कहा घोड़ा तो आपको मिल जायेगा पर घोड़े के Malik की 2 शर्ते है – पहली शर्त तो ये है कि घोड़े को लेने के लिए apko खुद जाना होगा।

ये सुनकर akabr बड़ा खुश hua और कहने लगा कि, ये तो बड़ी आसान शर्त है। फिर बीरबल ने dusri शर्त बताई की ghoda ले जाने के लिए hafte के सातों दिन के alava कोई और दिन देखना होगा। Birbal ने हँसते हुए कहा ghoda लाने के लिए शर्ते तो माननी ही पड़ेगी।

Akbar समझ गया कि birbal को मुर्ख बनाना कोई आसान काम नहीं है।

12. संगति का असर : (Short Moral Stories in Hindi For Class 2)

Ram और shiyam दो भाई थे, दोनों एक ही कक्षा में पढ़ा करते थे। राम पढ़ने में बहुत husiyar था। पर उसका भाई पढ़ने से दूर भागता था। राम के जो dost थे वो पढ़ने में अवल थे और वही दूसरी तरफ श्याम के दोस्तो को पढ़ने में bilkul दिलचस्पी नहीं थी, वो पढ़ाई से दूर भागते थे। ये सब dekhne के बाद राम अपने भाई श्याम को उसके dosto से दूर रहने के लिए बोलता था, लेकिन श्याम अपने भाई की बात नहीं sunta और उसे कहता की आप अपने काम से matlab रखो।

एक दिन shayam अपने भाई के साथ स्कूल जा रहा था। उसका भाई राम कक्षा में चला गया achanak श्याम के दोस्त आए और उसे कहने लगे कि आज hmare दोस्त हरि का जन्मदिन है, इसलिए आज स्कूल ना जाओ। Pehle तो श्याम ने मना किया, किंतु दोस्तों के बार-बार bolne पर वह उनके साथ चला गया। धीरे-धीरे श्याम को aadat हो गई और वो हर रोज ऐसा करने लगा।

कुछ दिन बाद pariksha का परिणाम घोषित हुआ, जिसमे श्याम और उसके दोस्त fail हो गए। वही उसके भाई ने प्रथम स्थान हासिल किया। श्याम अपने घर marksheet लेकर गया उसके माता-पिता ने जब uske अंक देखे वो बहुत उदास हुए कि हमारा एक बेटा पढ़ने में itna अच्छा है और दूसरा इतना नालायक।

Shayam को महसूस हुआ कि मैंने अपने माता-पिता का दिल दुखाया है जिसके बाद उसने उन्हें bharosa दिलाया कि मैं अगली परीक्षा में आपको safal होकर दिखाउँगा। श्याम ने अपने उन सब दोस्तों को छोड़ दिया jinhone उसकी सफलता में उसका मार्ग रोका था और वो अपनी padhai में ध्यान देने लगा।

Natiza यह हुआ कि साल भर की mehnat से वह परीक्षा में सफल ही नहीं balki उसने विद्यालय में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया। उसके mata pita को बहुत खुशी हुई है और उन्होंने श्याम को गले से लगाया और sabasi दी।

शिक्षा – जैसी संगति वैसा ही परिणाम

13. बुद्धिमान साधू (Small Story in Hindi)

एक बड़ा सा rajmahal था, जिसके द्वार पर एक sadhu आया और वो साधु duwarpal से आकर कहने लगा कि अंदर जाकर राजा से कहो कि उनका bhai उनसे मिलने आया है। द्वारपाल सोचने लग गया कि ये sadhu के भेस में राजा से कौन मिलने आया है जो राजा को apna भाई बता रहा है। फिर द्वारपाल ने समझा कि क्या पता कोई दूर का ristedar हो जिसने सन्यास ले लिया हो। द्वारपाल ने अंदर जाकर सूचना दी jiske बाद राजा मुस्कुराने लगे और उन्होंने कहा कि sadhu को अंदर भेज दो।

Sadhu ने पूछा, “ कैसे हो भैया

Raja ने जवाब दिया, “ मैं ठीक हूँ, तुम बताओ, तुम कैसे हो?

Sadhu ने राजा को कहा कि, “ मैं जिस mahal में रहता हूँ वो बहुत ही jayada पुराना हो गया है। कभी भी tutkar गिर सकता है। yahan तक की मेरे 32 Nokar थे वो भी एक-एक करके चले गए। ये सब Sunkar राजा ने साधु को 10 सोने के sikke देने का आदेश दिया। पर SAdhu ने कहा 10 सोने के sikke तो कम है। ये सुनकर raja ने कहा कि अभी तो itna ही है तुम इससे काम चलाओ eske बाद साधु वहाँ से चला गया।

साधु को dekhkar मंत्रियो के मन में भी कई sawal उठ रहे थे, उन्होंने राजा से kaha कि जितना हमे पता है apka तो कोई भाई नहीं है तो अपने उस sadhu को इतना बड़ा inam क्यों दिया? राजा ने jawab देते हुए कहा, “देखो bhagya के दो पहलू होते है- राजा और रंक, इस nate उसने मुझे भाई बोला।

राजा ने samjhte हुए कहा कि जर्जर mahal से उसका मतलब uska बूढ़ा शरीर था, 32 नौकर से uska मतलब 32 दाँत थे। समंदर के bahane उसने मुझे ulajhne दिया कि राजमहल में उसके पैर rakhte ही मेरा rajkosh सुख गया, क्योंकि मैं मात्र उसे दस सोने के sikke दे रहा था जबकि मेरी hesiyat उसे सोने से तोल देने की है। Esiliye राजा ने alan किया कि मैं उसे अपना salahkar नियुक्त करुँगा।

शिक्षा – किसी व्यक्ति के बाहरी रंग रूप से उसकी बुद्धिमत्ता का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता।

14. शेर की चाल : Inspirational Short Moral Stories in Hindi

एक ghana जंगल था वहाँ चार bel रहते थे। चारों बैल में काफी गहरी मित्रता थी। शेर की एक icha थी वो चाहता था कि en में से अगर कोई बैल मुझे Akela मिल जाये तो मैं उसे maar कर खा जाऊँ। पर शेर की ये इच्छा kabhi पूरी नहीं हुई। चारो बैल हमेशा झुंड बनाकर रखते थे और hamesha एक दूसरे की मदद करने के लिए taiyar रहते थे।

शेर उनके बड़े सींगो से kafi डरता था, और उनसे दूर भागता था। एक दिन शेर ने सोचा कि ये charo कभी भी एक दूसरे से अलग नहीं होते, मुझे कुछ ऐसा sochna होगा जिससे मैं उन्हें एक दूसरे से अलग कर पाऊँ। Esiliye वह कोई ऐसी योजना सोचने लगा जिससे उनकी mitrata तोड़ी जाए। एक दिन वह एक बैल के pas गया और उससे बोला, “तुम्हारे mitr कहते है कि तुम बहुत बड़े murkh हो।

यह sunkar बैल को बहुत बुरा लगा और उसने dusre बैलों से bolna छोड़ दिया। इसी तरह शेर ने सारे बैलों के bich में एक दूसरे के लिए nafrat भर दी। इसके बाद शेर ने एक दिन एक बैल पर हमला कर दिया, ये dekhkar तीनो बैल उसकी sahayata करने के लिए aage आ गए। पहली बैल ने धन्यवाद करते हुए कहा कि हम मूर्ख नहीं है , जो शेर की chaal में आ जाते।

शिक्षा – एकता में ही बल है।

15. गरीब लकड़हारा : Motivational Short Moral Stories in Hindi

एक बार की baat है, एक गरीब Lakadhara अपने सात बच्चों के साथ रहता था। वह itna गरीब था कि अपने बच्चों को ठीक से खाना भी नहीं दे पाता था। Esi को देखते हुए उसने अपने बच्चों को जंगल में chodhne का फैसला किया।

Lakadhara के छोटे बच्चे ने उसकी ये बात सुन ली। उसने बहुत सारे सफ़ेद patthar अपनी pocket में भर लिए। अगले दिन जब वे जंगल में जा रहे थे तो वह Raste में पत्थर गिराता रहा। उनके पिता जंगल में बच्चों को chodhkar वापिस चले गए। छोटा बच्चा उन पथरो की मदद से अपने bhai-bheno को घर ले आया। अगली बार वह बच्चा patthar नहीं बटोर पाया इसलिए उसने रास्ते में रोटी के टुकड़े फांके जिन्हे chidiya और जानवर खा गए। बच्चे इस बार घर का रास्ता नहीं dhundh पाए और वे रोने लगे।

वही घर में जब bacho के पिता को अपनी गलती का अहसास हुआ, तो वह जंगल में अपने bachk को ढूंढ़ने निकल गए। अपने पिता को सामने dekhkar बच्चे भाग कर उनके पास गए। पिता ने उनसे वादा kiya कि आगे से वह ऐसा कभी nahi करेंगे। बच्चे ख़ुशी-ख़ुशी अपने pita के साथ घर की ओर चल पड़े।

Conclusion

बच्चों के मानसिक Vikas के लिए stories अहम bhumika निभाती है। इसके sath ही उन्हें एक आदर्श इंसान बनाने में मदद करती है। तो dosto Kahaniyan सबके जीवन का एक अहम हिस्सा है, jiske चलते आज हम आपके लिए Short Stories In Hindi For Kids और eske साथ ही Moral Short Story In Hindi लेकर आए है, इन hindi small story को पढ़ने के बाद आपने inse कुछ न कुछ जरूर सीखा होगा।

आशा karta हूँ कि मेरे द्वारा दी गई Top 10 Moral stories in Hindi आपको जरूर pasand आई होंगी, आपके बच्चे को सबसे अच्छी Short Stories Hindi कौन-सी lagi हमें नीचे Comment बॉक्स में comment करके जरूर बताये। ऐसी ही और मजेदार कहानियां padhne के लिए बने rahiye धन्यवाद।

FAQs – hindi stories

Q. 3 types की Stories कौन सी है?

एक research में में दावा किया गया कि कहानियां केवल तीन types की होती है –

  • सुखद अंत (Happy ending)
  • दुखद अंत (Unhappy ending)
  • त्रासदी (Tragedy)

Q. Stories इतनी महत्वपूर्ण क्यों है?

Stories या कहानियां हमें dusro को और खुद को समझने में एवं खुद में परिवर्तन लाने में madad करती है। हम कहानियों में जिन पात्रों (character) को dekhte है, उनके साथ हम सहानुभूति mehsus करते है।

Q. एक achii कहानी के लिए क्या संरचना होती है?

सबसे majbut कहानियों में अच्छी तरह से vikshit किया गया विषय, आकर्षक प्लॉट्स, उपयुक्त संरचना, yadgar केरैक्टर, अच्छी तरह से चुनी गई settings और आकर्षक स्टाइल आदि चीजे होती है। 

निष्कर्ष।

हमारे द्वारा सुनाई गई कहानी Short Story In Hindi – 15 Best बच्चों के लिए छोटी मजेदार कहानियां आपको पसंद आई होगी अगर यह कहानी आपको अच्छी लगी तो इसको ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं आपको यह कहानी कैसी लगी।

यह भी पढ़े। 

Leave a Comment