लता मंगेशकर का जीवन परिचय। आयु, जाति, मृत्यु | Lata Mangeshkar biography in hindi

लता मंगेशकर जी की आयु, माता पिता का नाम, परिवार, कमाई, जाती, जन्म, पहला गाना, पहली फिल्म, अंतिम सॉन्ग। 

लता मंगेशकर जी का जीवन परिचय और उनके प्रसिद्ध गाने पर दिए गए अवॉर्ड्स। Mangeshkar biography in Hindi. Song list, net worth, birth date, awards. इन सब की जानकारी दी गई है

Lata Mangeshkar biography in Hindi, लता मंगेशकर का जीवन परिचय


Table of Contents

लता मंगेशकर का जीवन परिचय। 

(Lata Mangeshkar biography in hindi)

संगीत और सुरो की रानी लता मंगेशकर भारत के प्रसिद्ध कलाकारों में से एक है जो एक रत्न के रूप में मानी जाती है लता जी संगीत की वो रानी है जो अपनी आवाज की वजह से देश और विदेश हर जगह पर famous है 

वो अपनी आवाज की वजह से ही जाने जाते हैं लता मंगेशकर जी का जन्म गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया है उन्होंने अपने जीवन काल में सबसे ज्यादा गाने का कर एक रिकॉर्ड बनाया है 

लता जी ने अपने जीवन काल में लगभग 30000 गाने विभिन्न भाषाओं में 1948 से लेकर 1987 तक गाय हैं लेकिन अब यह गाने 40000 का आंकड़ा भी पार कर चुके हैं लता जी की आवाज को सुनकर एक अमेरिका के वैज्ञानिक बोलते हैं कि ऐसी आवाज न तो किसी गायक की आज तक सुनी है और ना कभी सुनने को मिलेगी 

उन्होंने लता जी के मृत्यु के बाद उनके गले की जांच करने का भी प्रस्ताव रखा है उनका मानना है कि आखिर लता जी के गले में ऐसा क्या है जिसकी वजह से उनकी आवाज इतनी मधुर और सुरीली है आज भी सभी कलाकार लता जी को संगीत की देवी मानते हैं और उनको सादर नमन करते हैं।

लता मंगेशकर जी की जीवनी।

(Lata Mangeshkar biography)

नाम लता मंगेशकर
जन्म 28 सितम्बर 1929 इंदौर, मध्यप्रदेश
माता पिता का नाम शेवंती मंगेशकर, दीनानाथ मंगेशकर  
भाई बहन का नाम मीना, आशा, उषा व हृदानाथ
निधन 6 फ़रवरी 2022 मुंबई
आयु 92

लता मंगेशकर जी के पिता एक क्लासिकल संगीतकार थे जोकि मूवी थिएटर में कार्य करते थे लता जी गाना गाना अपने पिताजी से सीखा करती थी उनको यह विरासत में मिली थी।

लता मंगेशकर जी के करियर की शुरुआत।

(Lata Mangeshkar career starting)

लता मंगेशकर जी के करियर की शुरुआत महज 5 साल की उम्र में हो गई थी उन्होंने पहला कार्य अपने पिताजी के साथ एक नाटक में किया था उसके बाद मैं अभ्यास करती रही और फिर 1942 में महज 13 साल की उम्र में उन्होंने एक मराठी फिल्म के लिए अपनी आवाज में गाना रिकॉर्ड किया था 

फिर फिल्म रिलीज होने के बाद किसी कारणवश उस फिल्म से इनका गाना हटा दिया गया था और इस बात को लेकर लता जी बहुत ज्यादा दुख में थी और उसी साल लता मंगेशकर जी के पिता की हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई थी लता मंगेशकर अपने घर में सभी भाई बहनों से बड़ी थी तो पिता के गुजर जाने के बाद सारी जिम्मेदारियां उनके ऊपर आ गई थी

विनायक दामोदर जी किसी फिल्म कंपनी के मालिक थे जोकि दीनानाथ जी के अच्छे मित्र विवाह करते थे दिना नाथ जी के जाने के बाद उन्होंने ही लता जी के परिवार को संभाला और पालन पोषण किया।

लता मंगेशकर का पहला गाना।

(Lata Mangeshkar first song)

फिल्म का नाम गाने के बोल सन
गजभाऊ (मराठी फिल्म) माता एक सपूत की दुनिया बदल दे तू (हिंदी गाना) 1943

1945 के दशक में लता मंगेशकर जी मुंबई आ गई थी फिर उन्होंने अमानत अली खान जी से गाने की ट्रेनिंग लेनी शुरू कर दी फिर लता मंगेशकर जी ने 1947 में हिंदी फिल्म , आपकी सेवा में, एक गाना गाया था लेकिन उस समय किसी ने भी उनको नोटिस नहीं किया था उस समय में सिंगर नूर जहान, शमशाद बेगम और अंबलेवाली का दबदबा ज्यादा था 

उनकी यहीं गायिका पूर्णता सक्रिया थी। उनकी आवाज उस समय भारी थी जो अलग लगती थी उनके सामने लता मंगेशकर जी की आवाज थोड़ी दबी हुई लगती थी क्योंकि इनकी आवाज बहुत बारीक और सुरीली थी 

फिर उसके बाद लता मंगेशकर जी ने 4 हिट फिल्मों में 1949 में गाने गाए और उन सब फिल्मों में उनको नोटिस किया गया। अंदाज वह महल, दुलारी, बरसात फिल्मी हिट सीन मैं सेम महल फिल्म का गाना सुपरहिट हुआ था जो कुछ इस तरह था ,, आएगा आनेवाला ,, फिर उसके बाद लता मंगेशकर जी ने हिंदी सिनेमा में कदम जमा लिए थे।

लता मंगेशकर जी को मिले अवार्ड।

(Lata Mangeshkar got awards)

सिविलियन अवार्ड
  • 1969 में लता जी को पहली बार देश की सरकार द्वारा देश का 3rd नंबर के अवार्ड पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.
  • 1989 में लता जी को हिंदी सिनेमा के सर्वोच्य अवार्ड दादा साहेब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किया गया.
  • 1999 में लता जी को देश का 4th नंबर के अवार्ड पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था.
  • 2001 में लता जी को देश का सबसे बड़ा सम्मान भारत रत्न ने सम्मानित किया गया.
  • 2008 में लता जी को स्वतंत्रता की 60वीं वर्षगांठ पर one टाइम अवार्ड for लाइफटाइम अचिवेमेंट्स के लिए देश की सरकार द्वारा सम्मानित किया गया.
नेशनल फिल्म अवार्ड
  • परिचय (1972) – बेस्ट प्लेबैक सिंगर
  • कोरा कागज (1974) – बेस्ट प्लेबैक सिंगर
  • लेकिन (1990) – बेस्ट प्लेबैक सिंगर
फिल्म फेयर अवार्ड फिल्म फेयर अवार्ड में पहले प्लेबैक सिंगर के लिए अवार्ड नहीं होता था, लता जी ने इसका विरोध किया और 1958 से यह अवार्ड जोड़ा गया. इसके बाद लता जी को 6 बार इस अवार्ड से सम्मानित किया गया.

यह सभी अवॉर्ड्स तो लता मंगेशकर जी को मिले ही थे लेकिन इनके अलावा भी बहुत से अवॉर्ड्स लता मंगेशकर जी को मिल चुके हैं और महाराष्ट्र की सरकार द्वारा उनको महाराष्ट्र भूषण और महाराष्ट्र रत्न से भी नवाजा गया था और इस सबके अलावा भी लता मंगेशकर जी को डेढ़ सौ गोल्ड मेडल और ढाई सौ ट्रॉफी प्राप्त हैं।

लता मंगेशकर जी का फिल्मी करियर।

(Lata Mangeshkar fimly career)

लता मंगेशकर जी ने सभी बड़े निर्देशकों और निर्माताओं के साथ मिलकर काम किया है नूरजहां की तरह गाने की कोशिश किया करती थी फिर धीरे-धीरे समय के साथ लता मंगेशकर जी ने अपनी आवाज को ही पहचान बना कर बुलंदियों पर पहुंचा दिया।

मदद मोहन, अनिल विश्वास, नौशाद अली, शंकर, जयकिशन, एसडी बर्मन जैसे महान म्यूजिक के डायरेक्टरों के साथ मिलकर काम किया। 

लता कर जी के आने के बाद जो फिल्म इंडस्ट्री हैं उन सभी का मेक ओवर हो गया फिर फिल्मों के अंदर गानों को नयापन मिला। उसके बाद लता मंगेशकर जी की छोटी बहन भी फिल्मी दुनिया में आ गई जिनका नाम आशा जी है 

लेकिन इन दोनों बहनों की आवाज में बहुत ज्यादा अंतर था लेकिन वह दोनों एक जगह ही काम करती थी इसलिए उनकी तुलना बहुत की जाती थी लेकिन दोनों बहनों ने कभी भी है काम को रिश्तो के बीच में नहीं आने दिया। 

लता मंगेशकर जी ने मोहम्मद रफी, किशोर वह मुकेश जी के साथ मिलकर बहुत सारे गाने गए जब भी ऐसा सुनने को मिलता था कि लता जी का गाना आया है तो लोगों की लालसा उनको सुनने के लिए बड़ी जाती थी।

 एसडी बर्मन, मोहम्मद रफी के साथ इनकी कुछ अनबन हो गई उसके चलते इन्होंने मोहम्मद रफी और एसडी बर्मन जी के साथ कार्य करने से मना कर दिया उसके बाद जो उनका मोहम्मद रफी जी के साथ मनमुटाव था उसको जयकिशन संगीतकार जी ने ठीक किया फिर सन 1972 के बाद उन दोनों ने कभी भी साथ मिलकर काम नहीं किया।

लता मंगेशकर जी के 1960 के प्रसिद्ध फिल्म के गाने।

(Lata Mangeshkar 1960 hit songs)

. मुग़ल ए आजम (1960) प्यार किया तो डरना क्या
2. दिल अपना प्रीत पराई (1960) अजीब दास्ताँ है ये
3. गाइड(1965)
  • आज फिर जीने की तम्मना है
  • गाता रहे मेरा दिल (किशोर कुमार जी के साथ)
4. ज्वेल थीफ(1967) होंठो पे ऐसी बात

इन सभी फिल्मों के गाने आज भी लोग बहुत ज्यादा पसंद और याद करते हैं और यह बहुत ज्यादा सुनने भी जाते हैं और इन सबके अलावा 

  • भूत बंगला 1965
  • पति पत्नी 1966
  • बहारों के सपने 1968
  • अभिलाषा 1969

जैसी फिल्मों के अंदर भी इन के गाने बहुत ज्यादा प्रसिद्ध हुए थे और उस समय में सन 1963 में लता मंगेशकर जी ने देश के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू जी के सामने अपना सबसे मनपसंद गाना ,,यह मेरे वतन के लोगों,, गाया था और यह गाना सुनकर जवाहरलाल नेहरू जी के आंसू आ गए थे।

लता मंगेशकर जी के 1970 की प्रसिद्ध फिल्म के गाने।

(Lata Mangeshkar 1970 hit songs)

पाकीज़ा (1972)
  • इन्हीं लोगों ने
  • चलते चलते
प्रेम पुजारी (1970) रंगीला re
शर्मीली (1971) खिलते है गुल यहाँ
अभिमान (1973)
  •  पिया बिना
  • तेरी बिंदिया रे
परिचय(1973) बीती ना बिताई
नीलू कादली चेकाडली
कोरा कागज रूठे रूठे पिया
सत्यम शिवम् सुदरम सत्यम शिवम् सुदरम
रुदाली दिल हुम हुम करे

यह सब उनके 1970 की प्रसिद्ध फिल्म के गाने हैं और इस समय में लता मंगेशकर जी को दो नेशनल अवार्ड से भी नवाजा गया था और इन सबके अलावा लता मंगेशकर जी विदेशों में लाइव कंसर्ट भी करती थी।

लता मंगेशकर जी के 1980 की प्रसिद्ध फिल्मों के गाने।

(Lata Mangeshkar 1980 hit songs)

  • सिलसिला
  • राम लखन
  • एक दूजे के लिए
  • चांदनी
  • मैने प्यार किया 
  • हीरो

मंगेशकर जी के 1990 की प्रसिद्ध फिल्मों के गाने।

(Lata Mangeshkar 1990 hit songs)

  • दिल वाले दुल्हनिया ले जायेंगे।
  • हम आपके है कोन।
  • वीर जारा।
  • डर।
  • लेकिन
  • दिल तो पागल है।
  • मोहब्बतें।
  • लम्हे।

इस दौरान लता मंगेशकर जी अपने खराब स्वास्थ्य के चलते हुए ज्यादा फिल्मों में काम नहीं कर पाई सन 2000 के बाद लता मंगेशकर जी ने बहुत कम गाने का है जिसमें ओ पालनहारे, लगान, रंग दे बसंती, बेवफा, लुका छुपी, कैसे पिया से कहे, शामिल हैं।

लता मंगेशकर जी कोरोना पॉजिटिव।

(Lata Mangeshkar health report corona positive)

हाली में मिली खबर के अनुसार लता मंगेशकर जी का स्वास्थ्य बहुत खराब हो गया, जिसके चलते उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। जिसके बाद उनको मुंबई के हॉस्पिटल ब्रिचकेंडी एडमिट किया गया है हम सब उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हैं।

देखा जाए तो लता मंगेशकर जी का स्वास्थ्य काफी दिन से खराब चल रहा था उनको सांस की बीमारी थे जिसके चलते उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया था और इसी को लेकर डॉक्टर्स का कहना है कि उनकी हालत काफी नाजुक है इसी को देखते हुए उनको लाइफ सपोर्ट सिस्टम में भी रखा गया है हम उनके स्वास्थ्य की कामना करते हैं और प्रभु से प्रार्थना करते हैं कि जल्द से जल्द अच्छी हो जाए।

लता मंगेशकर जी एक लीजेंड वूमेन है जिनके ऊपर हर भारतवासी को गर्व होता है और यह भी सुनने में आता है कि लता मंगेशकर जी क्रिकेट की बहुत बड़ी फैन है और उनके सबसे पसंदीदा खिलाड़ी का नाम है सचिन तेंदुलकर और सचिन तेंदुलकर भी उनका अपनी मां सामान मानते हैं लता मंगेशकर जी के नए-नए गाने सुनने के लिए हम बहुत बेकरार हैं उम्मीद करते हैं कि वह जल्द से जल्द अच्छे हो जाएं और जल्दी हमें उनको सुनने का मौका मिले। 

निष्कर्ष।

यह था लता मंगेशकर का जीवन परिचय (Lata Mangeshkar biography in Hindi) जिसमें हमने आपको लता मंगेशकर जी के बारे में सभी जानकारियां देती हैं आशा करता हूं आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी। 

यह भी पढ़ें

Leave a Comment